भाषा का चयन करे: हिंदी | मराठी
होम  |   हम हमारे लिये  |  सहाय्य  |  बाहरी संदर्भ
मनोरंजन
बदलती उम्र के साथ मनोरंजन का स्वरुप भी बदलने लगता है | जवानी की मौजमस्ती, खेलकूद, पॉप संगीत, जिम्नॅशिअ, साहसी प्रवास, विभिन्न लॅटिन नृत्य इस तरह के मनोरंजन मे रुची कम होने लगती है | बढती उम्र मे बैठे खेल या टीव्ही देखना या गपशप लडाना यह मनोरंजन बन जाता है | पहले जिन चीजों मे रुची नही थी उनमे भी अब रुची लगने लगती है| क्रिकेट मैच, फुटबॉल, टेनिस मैच या टीव्ही प्रोग्रॅम देखते हुए घंटों निकल जाते है| महिलएं ज्यादातर टीव्ही सीरिअल के पीछे पड जाती है | इस उम्र मे पढते पढते सोना यह मनोरंजन का बढिया साधन होता है | इस उम्र मे आवश्यकताएं भी घटने लगती है इसलिए मनोरंजन के लिए किसी तरह की शारीरिक हलचल करना भी अच्छा नही लगता |
   
<<
उपरोक्त विषय में अधिक मदद / जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

Disclaimer | Privacy Policy
Contents, creation and hosting by © 2018, The Abweb