भाषा का चयन करे: हिंदी | मराठी
होम  |   हम हमारे लिये  |  सहाय्य  |  बाहरी संदर्भ
दुसरा विवाह
सबसे करीबी रिश्ता केवल पती-पत्नी का होता है | बची हुई जिंदगी के लिए इस रिश्तेकी तथा उसके कारण प्राप्त होनेवाले साहचर्य की बडी ही आवश्यकता होती है | इस बात को भी नजरअंदाज नही किया जा सकता कि कोई भी अपनी बीती हुई जिंदगी को भुला नही सकता | लेकिन अगर समझदारीसे काम लिया जाये तो ऐसे विवाह भी आनंददायी हो सकते है |
   
<< >>
उपरोक्त विषय में अधिक मदद / जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

Disclaimer | Privacy Policy
Contents, creation and hosting by © 2018, The Abweb