भाषा का चयन करे: हिंदी | मराठी
होम  |   हम हमारे लिये  |  सहाय्य  |  बाहरी संदर्भ
घर के घर मे कसरत की समय सारणी निर्धारित करें :
विशिष्ट समय को, विशिष्ट क्रम से तथा विशिष्ट तरिके से घरके घर मे कसरत करनी चाहिए | हर कसरत के लिए आवश्यक समय निर्धारित करें| यदि संभव हो तो कसरत सुबह और शाम को अलग अलग रूप मे करें | कई तरह की समय सारणी भी मिलती है तथा कुछ ज्ञानगुफा मे भी उपलब्ध है | इस समय सारणी के अनुसार कम समय के अनुसार कसरत शुरु करनी चाहिए और उसका समय धीरे धीरे बढाना चाहिए | यह समय सारणी आप अपने घर मे ही बना सकते है | सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि हर दिन कौनसी कसरत कितने समय तक की इसकी प्रविष्टी करना | इससे हमे अपनी प्रगती की जानकारी होती है| यदि प्रविष्टी समय समय पर नियमित रूप से की तो शायद कसरत भी नियमित रूपसे संभव होती है | यदि कसरत के लिए एक घंटा लगता होगा तो उसकी प्रविष्टी के लिए एक मिनट पर्याप्त होता है | इस रिकार्ड का उपयोग डॉक्टरों को भी होता है | कसरत करते समय बीच बीच मे हमे विशेषज्ञों के साथ कसरत करके उनका मार्गदर्शन प्राप्त करना चाहिए | कहीं हमारी कोई भूल तो नही हो रही है या कसरत का कोई विशिष्ट तरिका हमारे लिए फायदेमंद न हो तो उसकी भी हमे जानकारी मिलती है | जिम जानेसे यह घर के भीतर करना अधिक उचित होगा | इस कसरत का उपयोग बढती आयु मे निश्चित रूप से होता है | जिस तरह आर्थिक शेष महत्वपूर्ण होता है उसी तरह शारीरिक शेष भी उतना ही महत्वपूर्ण है | इस उम्र भी लगी आदतें आगे चलकर बरकरार रह सकती है | इसलिए इन्हे बढती आयु के बाद सीखने से अच्छा यह होगा कि उसे अभी से ही सीखा जाये | अपना शरीर, अपनी पाचन यंत्रणा, अपने शरीर के जोड निरोग रहनेसे हररोज के काम मे भी आपको ताजगी का अनुभव होता है तथा बीमारी के कारण उत्पन्न होनेवाला चिडचिडापन तथा आर्थिक तनाव भी कम होता है |
 
<< >>
उपरोक्त विषय में अधिक मदद / जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

Disclaimer | Privacy Policy
Contents, creation and hosting by © 2018, The Abweb